चूड़ेल का सच - Bhoot pret kahani

एक बार एक युवक जिसकी उम्र यही कोई 28 साल रही होगी, उसकी शादी हो चुकी थी और उसका हाल ही में एक बच्चा भी हुआ था। एक दिन वो किसी सुनसान रास्ते से घर आ रहा था। तभी उसके सामने एक बाँस की डाली गिरि, जिसमें एक चूड़ेल बेठी हुई थी। वो उसे दराने लगी और अपने साथ ले जाने की धमकी देने लगी। तो युवक ने उस से बोला की, नहीं मुझे जाने दो मेरे घर में मेरी पत्नी अकेली अपने बच्चे के साथ है मुझे जल्दी घर जाना है। तो चूड़ेल ने उस से बोला की तुम्हें एक ही सर्त पे घर जाने दूँगी, अगर तू मुझे भी अपने साथ रखेगा पत्नी बना के। उस युवक के पास और कोई चारा नहीं था इसलिए वो उसको अपने साथ घर ले आया। उसने अपनी पत्नी को पूरा वृतांत सुनाया। उसकी पत्नी भी मजबूर थी इसलिए उसको भी चूड़ेल को अपने घर पर रखना पड़ा। युवक की पत्नी अपने बच्चे को बिस्तर में सुलाके काम करती थी। लेकिन जब बच्चा रोने लगता था तो उस के चुप करने से पहले ही चूड़ेल जाकर उसे उठा लेती और तेल से उसकी मालिश भी करती थी। ये सब उसकी पत्नी को अच्छा नहीं लगता था, उसे डर था की आखिर वो चूड़ेल है और इन्सानो को नुकसान जरूर पहुंचाएगी। इसके चलते वो अपने बच्चे को उस चूड़ेल से दूर ही रखती थी। एक दिन ऐसी घटना घटी की सब के होश उड़ गए। युवक का बच्चा खो गया था वो कहीं नहीं मिल रहा था, सब लोगों ने जब उसे खोजा तो उसे एक नाले में मृत पड़ा हुआ पाया। ये देख कर उसकी पत्नी बिलक-बिलक कर रोने लगी और उस बच्चे की मोत का ज़िम्मेवार चूड़ेल को ठहराया। जब युवक ने उस चूड़ेल से पुच्छा की क्या ये तुम्हारा काम है ? पहले तो चूड़ेल इन सब से इंकार करती रही लेकिन बाद में उसने ये बात स्वीकारी की उसने ही बच्चे को मार दिया और नाले में डाल दिया। ये सब उसने इसलिए किया क्योंकि उसकी पत्नी उसे बच्चे से दूर रखती थी इस कारण उसे गुस्सा आया और उसने बच्चे को मार दिया। ये सब सुनकर वो युवक बहुत निराश हो गया और रोने लगा। हमने तुम्हारा क्या बिगड़ा है जो तुम हमे परेशान कर रही हो। इतना सुनने के बाद उस चूड़ेल ने बच्चे को वापिस जीवित कर दिया और बोला की आगे से तुमलोग मुझे इस बच्चे से दूर नहीं रखोगे। बस फिर क्या था वो चूड़ेल उस बच्चे का ख्याल रखने लगी और युवक की पत्नी ने डर के मारे सब कुछ देखने में ही भलाई समझी।
लेकिन सबसे बड़ी बात ये है की आखिर उस चुडेल ने क्यू एक परिवार का हिस्सा बनना चहा और उसका उस बच्चे के साथ क्या लगाव था?
ये आपको बाद मे पता चलेगा।

दोस्तो ये कहानी मेरे एक दोस्त ने मुझे सुनाई थी जो बिलकुल सच है। आपको ये कहानी कैसी लगी Comments के माध्यम से जरूर बताए। धन्यवाद !


चूड़ेल का सच - Bhoot pret kahani चूड़ेल का सच - Bhoot pret kahani Reviewed by anuj singh on 23:07 Rating: 5

8 comments:

  1. Bohot achhi kahani hai

    ReplyDelete
  2. खतरनाक भूतों की कहानी पड़ने के लिए तथा जिन्नात क्या होते हैं वोह इंसानों क्या विहेब ये सब जानने के लिए यहाँ क्लिक करे धन्यवाद https://cliemax.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. please यहाँ किसी प्रकार का Promotion ना करे।🙏

      Delete
  3. Aisi ghatna bhi hoti hai , ye aaj pata chala

    ReplyDelete
  4. Tum ye theam kaha se aur kese lete ho

    ReplyDelete