फिर पहाड़ी पर जाना पड़ा भारी ( Scary Ghost Stories 2017)

Horror stories in hindi (ghost)

कभी कभी कुछ ऐसी घटनाए हो जाती है जिसे भुलाना अच्छा होता है पर किसी करण हमें वो घटनाए वापस याद आ जाती है या कहें जी उन घटनाओं से जान मुच कर फिर मुलाकात करा दिया जाता है जिसका उदहारण आज आप इस कहानी में पढ़ेंगे। bhoot stories in hindi
ये कहानी है 3 दोस्तों की जो कश्मीर की पहाड़ियों में छुट्टियाँ बनाने जा रहे थे। ये उनका पहली बार नहीं था इससे भी पहले वो वहाँ पर एक बार जा चुके थे। तीनो दोस्तों में से एक का नाम सौरव और दूसरे का नाम आकाश और तीसरे बन्दे का नाम यश था। तीनो एक ही कार में बैठ कर कश्मीर की पहाड़ियों की तरफ जा रहे थे। पढाड़ी का रास्ता बहुत घुमावदार और खतरनाक था। थोड़ी सी भी गलती उनको खाई से नीचे गिरा सकती थी। वो लोग अपनी गाड़ी से पहाड़ पर चढ़ ही रहे थे की उनकी गाड़ी ने जवाब देना शुरू कर दिया। तभी उनमे से एक जिसका नाम आकाश था उसने जोर से चिलाय "कुछ भी हो जाए सौरव गाडी यहाँ मत रोकना।"
सौरव को भी ये बात पता थी क्योंकि यहाँ पर उनके साथ एक घटना घटी थी जो की आपको आगे कहानी में पता चलेगी।
सौरव ने कैसे भी करके अपनी गाड़ी को उस जगह से 2 km दूर ले गया जहाँ पर उनकी गाड़ी खराब हो गई। आकाश ने कहा कि आज हम बाल बाल बचे नहीं तो अगर गाडी उस जगह खराब होती तो हमारी मौत तय थी।
पर समस्या अब यह थी की गाडी को अब ठीक कैसे किया जाए क्योंकि गाडी में से तेल ख़तम हो गया था। और आस पास कोई दूसरी गाडी भी नज़र नहीं आरही थी। तेल लेने के लिए उनको फिर से पहाड़ी के निचे यानी 20 km जाना था। गौरव ने आकाश और यश को कहा कि तुम दोनों गाडी के अंदर ही रहना में नीचे जा कर तेल ले कर आऊँगा। और तुम दोनों कुछ भी हो जाए पर गाडी का दरवाज़ा मत खोलना क्योंकि हमें अभी बहुत खतरा है।


तभी गौरव देखता है कि ऊपर से एक ट्रक नीचे की और जा रही है। गौरव ने उसे झट से रुकवा दिया और नीचे साथ ले जाने के लिए आग्रह किया। ट्रक में एक सरदार और उसकी घूँघट लगाए पत्नी बैठी थी। वो भी उसी ट्रक में जा कर बैठ गया। ट्रक नीचे की और अब जाने लगी। रस्ते में वही जगह आनी थी जिससे गौरव और उसके दोस्त डर रहे थे। जैसे ही वो जगह आया वैसे ही गौरव ने अपनी आँखे बंद करली और उस जगह से पार हो जाने का इंतज़ार किया। जैसे ही ट्रक कुछ आगे निकला। ट्रक में बैठी सरदार की पत्नी ने कुछ ऐसा कहा कि गौरव के पसीने छूट गए। सरदार की पत्नी ने कहा कि " छोडो न नहीं तो कोई देख लेगा।" आखिर ऐसा क्या था कि ये सुनते ही गौरव डर गया। गौरव झट से चलती ट्रक से कूद गया। उसको बहुत खरोंचे आई । उसके शरीर पर जगह जगह खून बहने लगा । उसको बहुत गंभीर चोट आ गई थी। वो समझ गया था कि जिसका डर था अब वही होने वाला है।
वो वापस अपनी गाड़ी की और ऊपर भगा ये देखें की उसके दोस्त तो ठीक है। वो कैसे भी गिरते पड़ते गाडी तक पहुच गया। वो गाडी की खिड़की को ज़ोर ज़ोर से पीटने लगा। अंदर बैठे दोस्त उसको उसकी खून से लथपथ हालात की वजह से पहचान नहीं पा रहे थे। जब उसने उनको अपना नाम बताया तब जा कर उन्होंने दरवाज़ा खोला। और वो झट से जा कर अंदर बैठ गया और दरवाज़ा बंद कर दिया। और फिर उसने सारी बात अपने दोस्तों को बताई की वो लोग आचुके है। 

तभी आकाश गौरव की बात सुन कर यश की तरफ देखने लगता है और वही बात बोलता है जो उस ट्रॅक में उस औरत ने बोला था "छोडो न नहीं तो कोई देख लेगा।" गौरव समझ गया कि ये आकाश और यश नहीं है वो जल्दी जल्दी कार का दरवाज़ा खोलने लगा पर वो खुल नहीं रहा था। अचानक पहाड़ के ऊपर रखा एक बड़ा सा पत्थर उस गाडी पर गिर गया। असल में आकाश और यश गाडी के बाहर खड़े थे और गौरव का इंतज़ार कर रहे थे। उन्होंने गाडी पर पत्थर गिरने की आवाज़ सुनी और झट से गाड़ी की और गए। उन्होंने देखा की गाडी में गौरव था जो अब ज़िंदा नहीं बचा था। वो भी समझ गए की अब उनकी भी जान खतरे में है। तभी आकाश ने कहा कि हमें जल्दी से जल्दी पहाड़ से उतरना चाहिए और police के पास जाना चाहिए और उनको सारी बात बतानी चाहिए। दोनों बहुत डरे हुए थे। तभी उन्होंने एक बस को आता हुआ देखा और इसको रुकवा कर वो उसमे बैठ गए। बस driver, coducter और 4- 5 लोग और थे। conductor ने उनसे पूछा "कहाँ जाना है" उन्होंने घबराते हुए कहा " पुलिस...पुलिस sation" और दोनों ने उससे टिकेट लेली। कुछ आगे जाने के बाद बस फिर से रुकी पर इस बार इसमें 2 लोग और चढ़े, दोनों ने कंबल ओढ़ रखी थी जिससे उनका चेहरा दिखाई नहीं दे रहा था। दोनों यश और आकाश के सीट के पीछे ही बैठे। अचानक ऐसा लगा जैसे पीछे बैठे उन दोनों लोगो ने यश और आकाश को गले से पकड़ लिया और उनको जान से मारने की कोशिश करने लगे। उन दोनों का दम घुटा जा रहा था। वो दोनों आवाज़ भी लगा रहे थे। पर पास में बैठे लोग और कंडक्टर ऐसे बैठे थे जैसे वहाँ कुछ हो ही न रहा हो। अब जब आकाश और यश को लगा की अभी उनकी जान निकलने वाली है तभी कंडक्टर ने आवाज़ लगाई "आगया पुलिस स्टेशन" उन्होंने देखा की पीछे तो कोई था ही नहीं। और बस में सब कुछ वैसा का वैसा ही था पर दोनों के गले पर उंगलियों के निशान बने थे।

दोनों भागते हुए बस उतरे और बस अपने रास्ते निकल पड़ी। वो देखते है कि वही दो कंबल ओढ़े लोग बस के पीछे वाली खिड़की से उन्हें ही झाँक रहे है। यश और आकाश भागते हुए पुलिस के पास गए और कहा कि "उन्होंने गौरव को मार दिया, आप जल्दी चलो हमारे साथ।" police ने पुछा "किन्होंने मार दिया और ये गौरव कौन है" आकाश और यश पुलिस वापस पहाड़ी पर ले गए और गौरव की लाश दिखाई और कहा कि ये हमारा दोस्त है और हम यहाँ घूमने आए थे और इसको उन प्रेतों (ghost) ने मारा है। पुलिस समझ गई की ये दोनों पुलिस को बेवकूफ बना रहे है और इन्होंने ही गौरव को मारा होगा और ऐसी बाते बना कर ये दोनों बचना चाहते है। पुलिस दोनों को पुलिस स्टेशन ले गई और पूछताछ करने लगी। पुलिस ने पूछा की तुमने गौरव को क्यों मारा। आकाश रोते हुए बोला सर हम अपने ही दोस्त को क्यों मारेंगे ये सब उन प्रेतों (ghost) ने किया है।

पुलिस घुस्से में पूछती है कौन से प्रेत और कैसे प्रेत मुझको पगार मत बनाओ। तब आकाश डरते हुए उनको एक बात बताता है । वो कहता है कि सर एक और कुछ साल पहले इस पहाड़ी पर आ चुके है। उस वक़्त भी हम तीन ही थे। अभी हम गाडी से जा ही रहे थे की हमने एक चट्टान के पीछे से एक आवाज़ सुनी। हम वो देखने के लिए उस चट्टान के पीछे गए हमने देखा की नया शादी शुदा पति पत्नी वहाँ बैठे थे। और पत्नी उसको बार अपना हाथ चढ़ाते हुए कह रही थी की "छोडो न नहीं तो कोई देख लेगा" और दोनों वहीँ बैठ कर एक दूसरे के प्यार में डूब गए। उनको ये भी नहीं पता था कि उनको कोई देख रहा है। और हमने उनका पूरा seen अपने मोबाइल में video में बना लिया । हमने यहीँ पर सबसे बड़ी गलती कर दी थी। हमने घर जा कर उस वीडियो को internet पर डाल दिया जिसके कारण वो वीडियो बहुत फेल गई। ये बात उन पति पत्नी को भी पता चल गई थी उन्होंने शर्म के मारे आत्म- हत्या कर ली। और ये बात हमें न्यूज़ द्वारा पता चली। 
ये बोलते हुए आकाश रो पड़ा और कहा कि सर हमसे बहुत बड़ी गलती हो गई थी । और आज उन्ही की आत्मा हमें मारने के लिए ये सब कर रही है। पुलिस ने कहा कि तुमने तो बहुत बड़ी गलती की ही है और इसकी सजा तुमको जरूर मिलेगी। और दोनों को पुलिस ने पति पत्नी के मौत के ज़ीमेवार घोषित करते हुए उम्र कैद की साजा दे दी। और गौरव को तो पहले ही सजा मिल चुकी थी। और उन दोनों पति पत्नी की आत्मो को भी सही इन्साफ मिल गया।
दोस्तों कभी कभी लोग जाने- अंजाने में भी गलती कर जाते है पर कुछ गलतियां ऐसी भी होती है जिसको न सुधार जाए तो वो हमसे ही बदला जरूर लेती है।

तो इसी तरह और ऐसी डरावनी और भूतिया कहानी के साथ में फिर लौटूँगा तब तक आप हमारी ghost stories पढ़ते रहे।

फिर पहाड़ी पर जाना पड़ा भारी ( Scary Ghost Stories 2017) फिर पहाड़ी पर जाना पड़ा भारी ( Scary Ghost Stories 2017) Reviewed by anuj singh on 22:47 Rating: 5

1 comment:

  1. Accha police ne hi umar kaid de di kya? Waah, kya baat hai!

    ReplyDelete